21 नवंबर 2011

सिर्फ सुनना लाज़मी है....

बिना कुछ कहे सिर्फ सुनना लाज़मी है ,
बिना कुछ सुने सिर्फ  कहना लाज़मी है ,
तुम थे तो जिंदगीमें बहार खिलती थी वीरानेमें भी ,
तुम बिन  बहारोंमें भी हंसते नहीं गुल फिज़ाओंके ...
==================================
कुछ तुम न समजे ,
कुछ मेरी भी खता रही है ,
एक तुमसे जुदा क्या हुए ...
जाना की अब जिंदगी भी सजा हो चुकी है .......
==================================
जब चाहा है तुम्हे दिलो जान से
नफ़रतको जताना मुमकिन नहीं
होठो पर तेरा नाम न हो भले मेरे
दिलसे तुझे निकालना मुमकिन नहीं मेरे लिए ......

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जब चाहा है तुम्हे दिलो जान से
    नफ़रतको जताना मुमकिन नहीं
    होठो पर तेरा नाम न हो भले मेरे
    दिलसे तुझे निकालना मुमकिन नहीं मेरे लिए
    . न भुलाने की मज़बूरी का सुखद अनुभव.
    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रभावशाली रचना ...
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिना कुछ कहे सिर्फ सुनना लाज़मी है ,

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...