14 सितंबर 2011

अन्दाजें बयां

उनकी  चाहतोंका रहा अन्दाजें बयां कुछ और ही ,
बस हम बोलते रहे और वो सुनते रहे आँखों से .....
=======================================
रस्तेके हर पत्थर पर उनका नाम लिखता चला गया ,
पत्थर ख़त्म हो गए और हसरत अधूरीसी रहने लगी ....
=======================================
इश्कके मायने पढने पढ़ ली हर किताब जिसमे ये शब्द महफूज़ लगा ,
और वक्त कुछ यूँ जाया कर लिया हमने की इश्क करना ही बाकी रह गया ...

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढ़िया।
    --------
    कल 16/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...