9 सितंबर 2011

वेकेशन मनाने के लिए ....

मेरी मुस्काने अब आयनेके अक्सकी तरह है ,
एक आभास होता है हंसी का
पर छूकर देखो तो बेरूख होकर होती गायब है
जैसे उसकी हस्ती हो ही नहीं ......
मुझे पूछते है लोग कहाँ गयी वो मुस्कुराहटें ???
कह देती हूँ वो भी थक गयी थी ...
गयी है कहीं दूर वेकेशन मनाने के लिए ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...