22 मई 2011

दिल्लगी ...

आज मौसम और मिजाज़ बड़ा आशिकाना है
मेरे घरकी छत पर रातसे बरखा और बादल का आनाजाना है ....
कल रात हुआ था बादलको बरखासे पहली नजरका प्यार
दोनों निकल पड़े है लॉन्ग ड्राइव पर हवाके रथ पर होकर सवार .....
तारोंसे भरी शौल ओढ़कर सोये थे रात में ,
सूरजके पसीनेने दिल्लगीसे छेड़ा हमें बरखाकी बुँदे बनकर ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...