31 मार्च 2011

सलाम इंडिया ...

कल का मेच !!!!!
सलाम इंडिया .....
वो ग्यारह थे ,
पर उनके साथ और एक अबज और दस करोड़ थे .......
जूनून मैदानके अन्दरसे ज्यादा मैदानके बाहर था ....
जूनून मोहालीकी सरहदोंके पार सारे देशमें था ....
कल देशके लिए दीवाली थी ,
पटाखें रात सजाकर चली गई ,
और आँखोंसे नींद चुराकर चली गयी ,
भारत देश को क्रिकेट धर्मसे जोड़ कर चला गया .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...