16 मार्च 2011

लो गर्मी आ गयी ...

कल रात सितारोंसे मुलाकात हुई ,
आधे चाँदसे भी मुलाकात हुई ....
उन्हें भी इंतज़ार था मेरे छत पर आने का ,
उनका दिल भी बेक़रार था कुछ बतियाने को ...
रूठकर बैठा था मंगल कह रहा था शनिसे झगडा हो गया था ,
उसने शुक्र को दौड़ते हुए धक्का दे दिया था ....
शांत बैठा शुक्र कहाँ किसीकी मानता है ?
वो तो पश्चिममें उगता शामको फिर सहरमें पूर्वमें नज़र आता है ....
सप्तर्षि के तारे पूरी रात दोड पकड़ खेलते हुए उधम मचाते है ,
उनके शोरगुलसे तंग चंदामामा कई रात तक सो नहीं पाते है ......
रातके पल्लूमें छुपकर ये सब सितारे गप्पागोष्ठीमें वक्त बिताते है ,
अँधेरे के सच्चे साथी बनकर उनके हमसफ़र बन साथ चलते जाते है ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...