7 मार्च 2011

बाज़ार

हम क्या मोलभाव करेंगे
बिक गए थे कभी हम भी पानी के दाम पर ,
ये बेमुर्रवत दुनिया क्या जाने एक दर्द का दाम??
ये तो हर गली बस मुफ्त में ही बिकता गया ....
वो खुशियों की गली थी जहाँ हर चीज़ खुबसूरत पड़ी थी ,
क्या करे हम खरीद ना पाए कुछ भी ,
हमारी जेब से उनकी कीमत बड़ी थी ....
देने को हमारे पास सब कुछ था ,
जिसकी इस दुनिया में कमी है ,
प्यार ,वफ़ा ,इमान ,शिद्दत ,सच्चाई ,
पर वापस हम यूँ लौटे
क्योंकि बाज़ार में इसके खरीददार की कमी थी .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...