4 मार्च 2011

जिंदगी का घर ...

रिश्ते जिंदगीसे जुडी होते है
या जिंदगी रिश्तोसे बनती है ???
एक सवाल सोचते हुए हम कहीं दूर निकल गए थे ....
रस्तेमें प्यास लगी तो मटका याद आ गया ...
मटके के साथ रसोई और वो जहाँ थी वो घर याद आया ....
भूख लगी तो रोटी याद आई और उसके साथ चूल्हा याद आया ....
थक गए चारपाई याद आई और उसके साथ आँगन याद आया ....
हाँ एक घर है मेरा बहुत याद आया ...
घर में वो माँ याद आई , वो पिताजी याद आ गए ....
वो स्कुल ,वो दोस्त ,वो भाई बहन ,वो मास्टरजी भी याद आये ....
घर पर ताला होता था तब बिठाकर पानी देनी वाली पड़ोस की चाची याद आई ....
नहीं अब जाकर यकीं आ गया
रिश्तों से जुडती जिंदगी ही जिंदगी बनती है ...
वर्ना सहरा की तपती धुप और अनंत महासागर को देखो ...
सिर्फ वहां रेत ही रेत नज़र आती है ....

1 टिप्पणी:

  1. खूब कहा प्रीतिजी ..... जीवन में रिश्तों का बड़ा महत्व है....

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...