14 फ़रवरी 2011

प्यार को समजो कुछ ऐसे भी

प्यारकी तलाश तोहफोंमें मत कर अय नादान ,
तेरा दिल जो धड़क गया तो समज ये है प्यार का निशाँ ....
=====================================
प्यार दबे पाँव आने वाला एक जज्बा है ,
वो कभी शोर नहीं मचाता ,
शर्मीला है ये जज्बा इतना ,
की शोर होते वो छुप जाता है शर्मसे दुपट्टेमें लहराकर .....
========================================
पा लेने का नाम प्यार नहीं समज ये अधुरा है एक अर्थ ,
प्यार पूरा होता है जब ना पाते कुछ सब कुछ लुटा देता है कोई .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...