28 जनवरी 2011

इन रेखाओं में .........

चल ये टूटे पत्तेकी रेखाओंसे अपनी हथेली मिलाते है ,
थोड़ी सी तक़दीर को जोड़ते है और थोड़ी मायूसीसे मिलते है ,
फिर मैं समयके साथ उड़ जाता हूँ और पत्ते हवा के साथ ,
जिंदगीमें फिर मिले ना मिले ये पता नहीं
पर मेरी हथेली पर उसका स्पर्श
और उसकी रेखामें मेरी तक़दीर जुदा ना हो पाते है ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...