4 जनवरी 2011

सदके यार मेरे

आने का वायदा तो किया था मैंने कल मिलूंगी ,
राह में इतनी बरसात हुई की पैर फिसल गया ,
मोच मई टांगसे ना आ सकी चलकर
पर खुदा गवाह रहा
हर पल तेरे बगैर आहें भरी मैंने ....
अब आ चुकी हूँ सामने
निकल ले जो गुबार दिल में हो
मैं तो तेरे गुस्से पर भी सदके यार मेरे .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...