13 अक्तूबर 2010

चाँद भी ना !!!

कल चाँदने सिफारिश की तुम्हारी मुझसे
कहा ये लो थोड़े सितारे और लिख दो ग़ज़ल
मुझे कागज़ बना लो लिख दो मुझ पर एक पैगाम ,
महबूबा पढ़ लेगी जिसने तुम्हारे इंतज़ारमें आँखें बिछा दी है ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...