29 सितंबर 2010

माइक्रोवेव ओवनमें पका हुआ ख्याल

अभी अभी मेरे दिमागकी फेक्टरी में
एक नया सोंग मेन्युफेक्चार हुआ है ......
दिलमें दहीवडाने दस्तक दी और मनमें मसालाडोसा सर्व हुआ है
साम्बरकी कितली को प्यास है ...
कहीं एक इडली मिल जाए या मेदुवड़ेसे भी बात बन जाये
राह चलते रतलामीसेवसे मुलाकात हो गयी
चुराकर दिलने तीखा चेवड़ा भी छुपाया है ....
गली गली महक फैली है गुलाबजामुनकी
किटपिट करती काजू कतरीका भी साथ निभाया है
रबडीमें नहाकर आता है पिचका हुआ रसगुल्ला
खूब करता है पेट में रसमलाई बनकर हल्लागुल्ला .............
भागती भागती भेलपुरी तब मेरे पास आई
रोने लगी ये कहते हुए
पूरी में पंक्चर हो गया और गिर गया सारा पानी
छिले हुए थे छोले उस पर खमणढोकलाकी रुई लगाई
भटूरेकी पट्टी बांधकर उसे प्लेटमें पिज़ा के बिस्तर पर सुलाया है ..............

2 टिप्‍पणियां:

  1. शब्दों की खिचड़ी कर,
    आपने क्या खूब मिलाया है,
    सुबह सुबह आपने हमें ,
    बहुत लजीज खाना खिलाया है.

    लिखते रहिये ..

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...