18 सितंबर 2010

कुबूल कर लो आज .....

ढलते सूरजने एक सलाम भेजा है ,
शब्बा खैर का हँसी पयगाम भेजा है ,
तुम्हारी पलकोंकी हँसी चिलमनके लिए हिजाब भेजा है ,
तुम्हारी आँखोंमें बस जाने के लिए एक ख्वाब भेजा है ,
तुम्हारे दिलको धड़कनेके लिए एक बहानेका आगाज़ भेजा है ,
तुम्हारी नींदे उडा देने के लिए मेरे ख्यालोका तोहफा भेजा है ,
तुम्हारे इंतज़ारको मेरे लौटनेका संदेसे का अंजाम भेजा है ....

4 टिप्‍पणियां:

  1. कल 30/09/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर........
    इस समूहिक ब्लॉग में पधारें, हुमसे जुड़ें और हमारा मान बढ़ाएँ |
    काव्य का संसार

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...