17 अगस्त 2010

जिंदगी से पहले जिंदगी

जिंदगीसे पहले जिंदगी कहाँ ?
मौत से पहले जिंदगी कहाँ ?
जिंदगीसे पहले मौत कहाँ ?
अगर जी रहे है तो मौत नहीं ???
अगर मौत होती है तो फिर जिंदगी ही नहीं ???
फिर क्यों हम मर मर के जीते है ?
फिर क्यों हम हमारा जीवन सिर्फ धनसे जोड़ते है ???
धनी हो तो सुखी ....गरीब हो तो दुखी .....?????
वातानुकूलित कमरे में नरम गद्दे पर नींद कहाँ ?
जहाँ घोड़े बेच कर फूट पाथ पर सोते है उस इंसान के पास गद्दा कहाँ ??
चार मंजिलों वाले कितने घंटे घर पर रह पाते है ?
फूटपाथ पर रहने वाले हररोज शाम का खाना साथ खाते है ....
जिंदगी से पहले मौत नहीं ...पर मरकर जीने वालों की कमी नहीं ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...