8 अगस्त 2010

ये दिल तो ??!!

दफन करके लौटा हूँ
वो सारी मुलाकातें तुम्हारी ,
यादें तुम्हारी ,किस्से तुम्हारे ,
तुमसे निजाद पाने का एक रास्ता ये भी था ......
==================================
नयी कोपलें फुट कर बाहर आ गयी
जहाँ मेरे अरमान दफन थे ,
फिर सहेजे उसे अहेसासकी बूंदोंसे
फिर दिल ज़ख्मवार होने बेताब था तो ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...