24 मई 2010

आए हो मेरी जिंदगी में

किसीके आने से बहार आ जाए वो लम्हे का है इंतज़ार ,

बस तुम क्या आ गए अब बहार का इंतज़ार भी कहाँ ????

बस दिल की धड़कन हो गए और सांस बनकर महक गए ,

अब इस दुनिया से हमारा वास्ता कहाँ ????

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...