14 फ़रवरी 2010

हेप्पी वेलेंटाइन डे ...

शायद आज कल एक बदलाव रहा था मेरी कलममें ...

जीवजंतु शेर चित्ते भी आ चुके थे ...पर हम इन्सानको जो आज सबसे ज्यादा मुसीबत नज़र आ रही है वो पर्यावरणके मुद्दे को मद्देनज़र रखकार ही है ...हमारे जीवन के साथ एक तंदुरस्त जिंदगी के लिए ये जीवों का भी जीवित होना जरूरी है और इन जीवोके जीवित होने के लिए जंगलों का जीवित रहना भी जरूरी है ....

आज प्रेम का दिन है वेलेंटाइन दिन ...तो इस दिन को हमारे मानवीय प्यार के साथ उन सबके प्रति अपनी निष्ठां एवं प्रेम जताने की जरूरत है ...तो इन सब जीवोंसे भी अपना प्यार जताए ...

हम हमारे अपनों के साथ ये जीव श्रुष्टि का शुमार भी अपने प्यार की लिस्ट में शामिल करलें और उन्हें भी कह दे

हेप्पी वेलेंटाइन डे

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...