9 दिसंबर 2009

शब्द ...

एक बीज ....

शब्द है वह ...

पनपता है ,धरती के दिल को चीरता हुआ दिख जाता है ,

कभी शब्दोंकी बेले झूल जाती है ,

कभी उस पर नज़्मके फूल खिल जाते है ....

कभी टूटे पत्ते पर बैठकर उड़ जाते है हवा की आवाज बन ,

कभी नावके पस्तुल पर बैठ लहरोंसे अठखेलियाँ कर लेते है ....

सागरकी मौजो पर सवार हो समुन्दरके सूर बन

एक नगमा गुनगुनाते है ....

कभी कोयल की हुक बन कभी

कुत्तेका दर्द बन सुनी रातमें भय घोल जाते है ...

कभी अल्लाह की आजान बन कभी मन्दिरमें आरती बन ,

कभी भक्तों के दोहोंमें निराकार दुआ बन नजर जाता है ...

कभी रुदालीके गान में करुनाकी दुहाई दे जाता है ....

शब्द शब्द जो आवाजसे जुड़ जाता है ,

दर्द कसक की अठखेलियों में या प्यार के गुलमें ...

कभी मौन बनकर भी निखर जाता है ....

3 टिप्‍पणियां:

  1. waah..........ek behtreen abhivyakti.........shabd ko bada hi vistaar de diya.

    उत्तर देंहटाएं
  2. WAAH !!!! BAHUT HI SUNDAR ABHIVYAKTI....

    BACHCHE KI JO TASWEER AAPNE LAGAYI HAI,WAH TO BAS MAN HI MOH LE RAHI HAI...

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस कविता में प्रत्यक्ष अनुभव की बात की गई है, इसलिए सारे शब्द अर्थवान हो उठे हैं ।

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...