21 अक्तूबर 2009

बह गई थी वो रात

कुछ बुझे हुए दिए की जली हुई लौ थी ,

पठाखोंकी जली हुई बारूदकी गंधसे भरी हवाएं थी ,

बिखरे हुए रंगोंसे सजा हुआ था आँगन ,

मिठाईओंके खाली बक्सोंकी जमावट थी ......

दिल तो खुशियोंसे भर गया था बहुत ,

पर बदनमें बहुत सारी थकावट थी .....

हाँ ये सारी निशानियाँ गुजरी हुई दीवालीकी रातों की थी .....

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...