4 अक्तूबर 2009

ये दूरियां

कभी कुछ रंग बादलसे चुराए थे ,

नयनकी बारिशने धो ही दिए ....

=======================

तुम्हे जाना न मैंने कभी जब नजदीक थे ,

बस दूर क्या गए तुम तुम्हारे सिवा अब कोई नहीं .....

2 टिप्‍पणियां:

  1. कभी कुछ रंग बादलसे चुराए थे ,

    नयनकी बारिशने धो ही दिए ....
    waah ji bahut khub,ye ashq bhi rang hi le jate hai,

    उत्तर देंहटाएं
  2. कभी कुछ रंग बादलसे चुराए थे ,

    नयनकी बारिशने धो ही दिए ....

    bahut hi gahre bhav.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...