3 अक्तूबर 2009

इंतज़ार कब तलक

कहीं न कहीं कोई ना कोई तो होगा

जिसे मेरा भी इंतज़ार होगा ....

==============================

कोई फूल होगा खुशबू बिखेरता हुआ दूरकी वादियोंमें

उसे भी उसकी खुशबू किसीके पास पहुंचाने का इंतज़ार होगा ....

===============================

वो देखो एक अभिसारिका कैसे राह पर नजरें बिछा रही है !!!

उसे भी इस दीवाली पर अपने फौजी सैंया का इंतज़ार होगा ...

2 टिप्‍पणियां:

  1. कोई फूल होगा खुशबू बिखेरता हुआ दूरकी वादियोंमें

    उसे भी उसकी खुशबू किसीके पास पहुंचाने का इंतज़ार होगा ....
    bahut intaxaar ye intazaar ki khusbu bhi,waah

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...