30 सितंबर 2009

मजबूरी

सजदा कर दिया सरजमीं पर इश्कमें तुम्हारे ,

बंदगी तहे दिल से करते रहे हम ख्वाहिशोंके पूल बाँध ,

इबादत हमारी फ़िर भी कुबूल नहीं की खुदा ने कैसे ?

शायद हमारी मोहब्बत किस्मतमें अधुरा रहना लिखाकर आई थी .....

---------------------------------------------------------------

मासूम सी जिंदगी बदल जाती है पशो पशमें वक्त की ,

रेत का टीला भी टूट न पाया तेज आँधियों से ,

एक फौलाद का दिल बर्फ की सिली पर भी ,

देखो पिघलता देखते रहे हम मजबूर होकर ......

2 टिप्‍पणियां:

  1. एक फौलाद का दिल बर्फ की सिली पर भी ,

    देखो पिघलता देखते रहे हम मजबूर होकर ......
    waah kya baat kahi aafrin.isliye di ko koi samjh na paaya,waqt waqt rang badalta hai.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...