14 सितंबर 2009

चलो आज चलते है कहीं दूर ....

चटख जाता है एक एहसास कभी ,

खुशी के माहौल भी गमकी बदरी लेकर गुजरते है ,

हमारी खता ये होती है की हम गुजरते नहीं उस गलीसे ,

हम पशोपश में पलते हुए वहीं ठहर जाते है ......

==================================

चलते रहना ही जिंदगी है मेरी

फ़िर मैं कहीं क्यों रुक जाता हूँ ....

रुकने पर भी जिंदगी रूकती नहीं कभी ,

फ़िर मैं क्यों किसीके इंतज़ार में ठहर जाता हूँ ??????

1 टिप्पणी:

  1. रुकने पर भी जिंदगी रूकती नहीं कभी ,

    फ़िर मैं क्यों किसीके इंतज़ार में ठहर जाता हूँ ??????

    waah,intazaar hai hi aisi lagan,saari umar gujar jaati hai,bahut sunder.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...