17 अगस्त 2009

नाखुदा ....

हम इंसान है ये हम भूल गये थे ,

हर खता तुमसे हुई हम माफ़ करे चले थे ,

अब ये गम तेरे प्यारमें पल रहा ,

ना मैं इंसान रह चला ना खुदा बन सका ...

====================================

कश्ती साहिल पर इंतज़ार कर रही थी नाखुदा का ,

हवा के तेज झोंकेने सदा सुनी उसकी ,

और फ़िर क्या हुआ ...!!!!

लहरों पर बहाकर उसे नए सरजमींके सैर पर ले चला ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...