4 अगस्त 2009

उनसे मिलकर ....

चुपचाप लंबे रस्ते पर हमकदम बनकर चलते रहे एक शाम ,

रुके थोडी सी देर के लिए एक मिलके पत्थर पर बैठे ,

एक शब्द ना उन्होंने कहा था , हम भी चुप्पी साधे चलते रहे थे ,

पर फ़िर भी ये लग रहा शायद बहुत सारी बातें हो गई थी ......

=========================================

उनकी दांतमें ऊँगली दबाने की अदा जैसे बातें कर गई ,

उनकी जुकी हुई पलकें शर्मो हयासे हमें कायल कर गई ,

बढ़ते बढ़ते रुक जाते थे जो कदम उनके साथसे मचल गई ,

उनके रुखसार पर आ कर अटक गई जुल्फ हमें घायल कर गई .........

क्या कहें ? क्या ना कहे ? क्या कोई जरूरत लगी उसकी ....

हमारे बीच थी जो खामोशी वही बातें करती रही ,सन्नाटे को चीर गई .........

3 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...