26 अप्रैल 2009

इंतज़ार और अभी और अभी .......

कैसी खुबसूरत होती होगी वो शाम अब भी ,

जब झीलके किनारे बैठकर सूरज अपना लाल अक्स देखता होगा ,

तब यादोंके एक कंकरसे पानीमें एक तरंग उठता होगा ,

जब लौटेंगे हम तब उस तरंगको ठहरा देंगे ,

आज इस हँसी शामको फ़िर जिन्दा बना देंगे ,

इंतज़ार थोड़ा कर ही लो जिंदगीको वापस बुला लेंगे ...........

============================================

कितने ज़ख्म और देगी ये जिंदगी ?

अब तो ज़ख्मके लिए भी जगह नहीं है दिल पर ,

ये लहू बह रहा है ? या बह रहे है अश्क ?

किस खता की सज़ा दे गए ये भी पता नहीं है ..............

3 टिप्‍पणियां:

  1. wah...kya baat hai...

    suraj apna lal aks dekhta hoga....

    bohot achche....

    उत्तर देंहटाएं
  2. कितने ज़ख्म और देगी ये जिंदगी ?

    अब तो ज़ख्मके लिए भी जगह नहीं है दिल पर ,

    ये लहू बह रहा है ? या बह रहे है अश्क ?

    किस खता की सज़ा दे गए ये भी पता नहीं है ...........bahut sunder shabdon ka sanjojan hai

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...