13 अप्रैल 2009

नई कोंपल .....

मुफलिसीके लिबासमें दौलत मुझे मिलने आई ,

उसे मैंने लौटा दिया ,मुझे अपनी मुफलिसी ही रास आई .........

==========================================

ये आप क्या कर बैठे ? मेरे दिलके आयनेको चूर चूर कर दिया ?

अब देखो जाकर हर टुकड़ेमें आपका ही अक्स उभरा है ......

==========================================

उस नाजुकसी डालीको कोमल स्पर्शसे सहला भी लूँ ,

नई कोंपलने बाहर आते वक्त उसका जिस्म चिर दिया है .....

6 टिप्‍पणियां:

  1. ये आप क्या कर बैठे ? मेरे दिलके आयनेको चूर चूर कर दिया ?

    अब देखो जाकर हर टुकड़ेमें आपका ही अक्स उभरा है

    ==========================================

    उस नाजुकसी डालीको कोमल स्पर्शसे सहला भी लूँ ,

    नई कोंपलने बाहर आते वक्त उसका जिस्म चिर दिया है .

    ------------
    waah behtreen sher kahen hain aapne...bahut hi achaa..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उस नाजुकसी डालीको कोमल स्पर्शसे सहला भी लूँ ,

    नई कोंपलने बाहर आते वक्त उसका जिस्म चिर दिया है .....
    bahut marmik sher,aki bhi bahut achhe lage.badhai

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये आप क्या कर बैठे ? मेरे दिलके आयनेको चूर चूर कर दिया ?

    अब देखो जाकर हर टुकड़ेमें आपका ही अक्स उभरा है ......

    ............बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपको और आपके पुरे परिवार को वैशाखी की हार्दिक शुभ कामना !

    उत्तर देंहटाएं
  5. kya baat kahi hai aapne bahot hi khubsurati se likha hai aapne...bahot bahot badhaayee iske liye...


    arsh

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...