9 अप्रैल 2009

होठों पर खिली मुस्कान

कब मुस्कराया था आखरी बार मैं
ये सोचते हुए होठों पर हंसी आ गई.........

==============================

तनहा रहना चाहा है अब हमने
मुस्कानको बनाकर चेहरेका नकाब................

===============================

असमंजसमें डाल जाती है अजबसी कशीश
पलकोंकी दहलीज पर खडे अश्कोंकी आतीश...........

==================================

तुम्हारी चाहमें अब कोई चाहत नहीं,
नामसे बढकर तुम्हारे अब कोई राहत नहीं........

3 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...