9 अप्रैल 2009

होठों पर खिली मुस्कान

कब मुस्कराया था आखरी बार मैं
ये सोचते हुए होठों पर हंसी आ गई.........

==============================

तनहा रहना चाहा है अब हमने
मुस्कानको बनाकर चेहरेका नकाब................

===============================

असमंजसमें डाल जाती है अजबसी कशीश
पलकोंकी दहलीज पर खडे अश्कोंकी आतीश...........

==================================

तुम्हारी चाहमें अब कोई चाहत नहीं,
नामसे बढकर तुम्हारे अब कोई राहत नहीं........

3 टिप्‍पणियां:

  1. तनहा रहना चाहा है अब हमने
    मुस्कानको बनाकर चेहरेका नकाब....
    kya baat hai bahut badhiya . dhanyawad.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर पंक्तियों में सुन्दर मनोभाव!

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...