26 मार्च 2009

मौसम एक तपिश ,एक सिहरन ,एक फुहार

गर्म गर्म राहों पर चलकर ,
तिल तिल पाँवके छालोंको चूमकर ,
सहरा का मौसम रंग लाता गया ,
झुलसती तपिशमें पसीनेकी बूंदोंमें जैसे नहाता गया .....

कण कण बर्फकी जमती गयी ,
सतह सतह एक पर एक तह लगाकर जमती गयी ,
बैठ गए बर्फके कम्बल ओढ़कर ,
देखो इस कोनेमें मेरे कांपते हुए अरमान .....

कागज़की कश्ती पर सरपट दौड़ता,
सड़कके पानीमें तेजधार बहता हुआ ,
देखो मेरा ये बचपन बूंदोंमें नाचता गया ,
इस पहली बारिशमें जवान होकर गाता चला ..........

2 टिप्‍पणियां:

  1. कण कण बर्फकी जमती गयी ,
    सतह सतह एक पर एक तह लगाकर जमती गयी ,
    बैठ गए बर्फके कम्बल ओढ़कर ,
    देखो इस कोनेमें मेरे कांपते हुए अरमान .....
    bahut sunder abhwyakti hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. कागज़की कश्ती पर सरपट दौड़ता,
    सड़कके पानीमें तेजधार बहता हुआ ,
    देखो मेरा ये बचपन बूंदोंमें नाचता गया ,
    इस पहली बारिशमें जवान होकर गाता चला
    waah kitni gehri bat keh di,wo bhi masoom andaz mein,khubsurat.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...