6 मार्च 2009

सफ़ेद बर्फ की चादर

सफ़ेद बर्फकी चादर पर लिखा है ,

अँगुलियोंसे अपनी एक नाम ,

अय जिंदगी लेकर आजा एक बहार ,

बितानी है साथ उसके हमें आज एक शाम ......

ढलती हुई शाम के आँचल पर ,

फैली होगी सात रंगोंकी लकीरें ,

एक छोटी से आग के सामने बैठकर

लिखनी है अब हमें कुछ तकरीर ....

पंछियोंका लौटकर जाना होता है घरौंदें में ,

रातकी सुर्ख स्याही तब लिखती है

सितारोंकी दवात लेकर चाँद पर ....

एक दास्तान जो आने वाले कल की होती है .....

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...