11 फ़रवरी 2009

वेलेंटाइन डे : समज लो प्यार का ये मतलब ...!!!!

कहते है संत वेलेंटाइन की यादमें प्यार करने वाले ये दिन मनाते है । तो आज एक ख्याल आया :प्यार को सही मायनेमें समज पाना क्या मुमकिन है ???प्यार को अभिव्यक्त करने का सिर्फ़ एक ही दिन १४ फरवरी ?मैंने जिस रूप में प्यार का अहसास किया है उसकी एक झलक :

=पहले प्यार का एहसास हुआ माँ के पहले स्पर्शमे... आज तक रूप बदल बदल कर वही प्यार आज तक बह रहा है ...

=प्यार का एहसास हुआ पिताजी के लाडमें आज तक कभी कोई कमी महसूस नहीं हुई ....

=प्यार का एहसास भइया के प्यार में आज तक बरक़रार है ......

=प्यार उन हर रिश्तोंसे मिला जो मेरे जन्म के साथ मुझे सौगात मिलकर मिले ....

=प्यार उस पल से मिला जब किसीको देखकर मेरा दिल पहली बार एक अनूठे एहसास के साथ जोरों से धड़का ॥

=प्यार उस प्रतिकृति में देखा जो मेरे शरीर का ही एक अंश बनकर इस दुनिया में आई और प्यार का मायना ही मेरे लिए बदल गया ....

प्यार को सही मायने में मैं तब ही समज पाई .प्यार जो देनेके लिए ही बना है ..बिना किसी से कोई उम्मीद किए प्यार देकर देख लो ...सबसे ज्यादा खुशी और सुकून आपके उस पल से मिल जाएगा ...

बस इस प्रवाह को निरंतर प्रवाह को बह जाने दो जी भर के ...

सबसे पहले प्यार करो अपनी इस जिंदगी को जो हमेशा किसी न किसी रूप में आपके साथ हर कदम चलती रहती है ।

=प्यार करो हर गम और हर दर्द से भी जिसने आपको ये महेसूस कराया की आप भीतर से कितने मजबूत है ??

=प्यार करो मुस्कानोंसे जो आपके होठों से निकल कर दूसरों के होठों पर फूल की तरह खिलती है ।

= क्या प्यार सिर्फ़ एक दिन का मोहताज है इस तेज रफ्तारसे भागती हुई दुनिया में ??!!प्यार तो शुरू होता है आपके जन्मसे और उसका अंत तो कभी नहीं होता क्योंकि शरीर पंचमहाभूत में विलीन होने के बाद भी वह प्यार किसीके भी दिलमे जिन्दा ही रहता है ..प्यारको अमरत्व का वरदान जो मिला है ...!!!

==== लेकिन शुक्रिया करना चाहूंगी मैं उस रब का जिसने एक आज़ादी दे दी मुझे दोस्त बनाने की और एक नि:स्वार्थ प्यार मुझे इस खुबसूरत रिश्ते से मिला ....मुझे बहुत ही प्यारे और खास दोस्त मिले जिन्होंने जी भर के मुझे प्यार दिया और मेरे हर गम और खुशी में मेरे हमसफ़र बनकर साथ चलते गए ........

**** प्यार करो जिंदगीसे , हर उस रिश्तेसे ,हर जाने -अनजाने व्यक्ति से जो आपसे कहीं न कहीं संलग्न है ।

*** दुनियाके हर जर्रे से ,हर जिव से जिसने इस दुनिया को इतनी खूबसूरती बख्शी है ..हर दम ...हर पल ...

=प्यार हर पल जिलो , उसे एक दिन का मोहताज मत बनाओ ।

आज आप एक गैर को अपना लो जिसे प्यार की जरूरत है ,

खुशियाँ उन्हें देकर देखो ,क्योंकि उनको भी प्यार की आप जीतनी ही जरूरत है .......


2 टिप्‍पणियां:

  1. bahut hi khoobsoorat vyakhya ki hai apne pyar ki.............sach pyar yahi to hai aur logon ne use palon mein , dinon mein baant rakha hai,pyar ke anek roop hain.........kisi bhi roop mein ho pyar pyar hota hai aur use lamhon mein qaid nhi kiya ja sakta.
    pyar to wo ek boond hai jo sadiyon se bah rahi hai aur bahti hi rahegi...........kudrat ka anmol tohfa hai.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...