28 जनवरी 2009

वक्त न रुकेगा कभी




कत्ल करते हो और कहते हो मुज़रिम नहीं ?

एक अदा होश उड़ने के लिए काफ़ी है और कहते हो ये साजिश नहीं..............

================================================

वक्त नहीं रुका है कभी ,

ना कभी रुकेगा किसीके लिए ..

दिल रह गया था उस मोड़ पर ,

जहाँ कभी आप छोड़ गए थे ....

============================================

सुना था हमने बहते वक्त के साथ रिश्ते पकते है ,

लेकिन हमने महसूस किया वक्त के साथ रिश्ते थकते है ,

जब एक खुबसूरत मोड़ पर जाकर ये रिश्ते रुकते है ,

बिना कुछ बोले रुकते ये रिश्ते कभी कभी जचते है ....

====================================

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...