3 जनवरी 2009

उफ़ ये अदाएं ...!!!!!

मांगनेसे तो खुदा भी मिल सकता है तो ये रकीब क्या चीज है ?
तड़प हो गर कुछ पा लेने की तो ये खुशियाँ क्या चीज है ????
=====================================
दम तो भरते थे वो दोस्ती का हरदम ,
मायने भी दोस्तीके क्या वो समज पाए है ?
खफा हम हुए थे इसी बात पर उनसे
पर उफ़....ये शिकायत भी हम न कर पाए है .....
=======================================
खामोशियों की भी एक जबां होती है खूबसुरत,
हलकी हँसी होती है इन होठों पर और आँखों में शरारत ,
पलकोंकी चिलमन ढँक लेती है ये शोख अदाको ,
और फ़िर वो हमें खफा समजे जाते है बस यूँही .....

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...