14 दिसंबर 2008

आजके राजनीतिज्ञोंको सप्रेम अर्पण ..........

प्रिय गांधीजी,
तसवीर आपकी जब भी देखती हूं,
आप हमेशा क्यों हंसते नजर आते हो ??

लोग आपका मजाक बना चूके है जब,
और ये आप है की उनकी सोच पर ही हंसते जाते हो......

लाखों लोगोके समर्पण पर बनी
हमारी आजादीकी ये ईमारत है .....

दिमत खा रही है आपके आदर्शोंको जब ,
सिर्फ किताबमें रहे उन उसुलोंसे दिमतका पेट तो भर रहा है.......

आप कल भी हमारे करीब थे और आज भी करीब ही है,
कल हमारे आदर्शोंमे तो आज सिर्फ हरी हरी नोटोंमें.........

सत्यमेव जयते एवं अहिंसा परमो धर्म .....
ये राजमार्ग पर चलकर आपने थी आजादी दिलवाई.....

लेकिन सिर्फ " अ"ने सिध्धांत जरा सा बदल लिया है,
तो अब है असत्यमेव जयते एवं हिंसा परमो धर्म...................

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढिया लिखी है रचना।बधाई।

    आप कल भी हमारे करीब थे और आज भी करीब ही है,
    कल हमारे आदर्शोंमे तो आज सिर्फ हरी हरी नोटोंमें.........

    एकदम सटीक!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लोग जगत मे आपका स्वागत है प्रितीजी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ahut sundar likha hai....jismain kuch sach or kuch jhuth chhupa hai....


    Jay Ho Mangalmay ho....

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...