26 जुलाई 2013

अच्छा लगता है....


तुम्हारे दिदारकी चाहतसे फुर्कत के लम्होमें भी जीना अच्छा लगता है ,

तुम्हारे साथ गुजरे हुए पल की यादोंके दामनमें लिपटना अच्छा लगता है ,

दिलमें हमारे बस गए हो आप इस कदर की हमारी खुशी जुड़ गई है तुमसे ही ,

इसी लिए तुम्हारे हरेक गममें शरीक होना हमें और भी अच्छा लगता है ....


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...