19 जुलाई 2012

तुम अपनोंमें शुमार !!!!!

तेरी हर बेवफाईको बड़ी वफ़ासे सह लिया हमने ,
बस तुमसे  किया इश्कका एक वादा निभा लिया हमने .....
================================================
क्यों अश्क भी खारे और आंसू भी ?
आँखोंमें भी समुन्दर छिपा होगा शायद ?!!!!
================================================
कहेना नहीं आया था बस की तुम्हे प्यार करते है बेशुमार ,
वर्ना शायद हमारा नाम भी शायद कर लेते तुम अपनोंमें शुमार !!!!!
=================================================
एक दर्दसे दुसरे दर्दका सफ़र भी कुछ अजीब होता है ,
बीच राहमे कभी कभी ख़ुशी का भी मक़ाम होता है !!!!
=================================================
कभी कभी गौरसे देख लो ये तेज हवाके झोंकोंको ,
इनमें कभी कभी दर्द भी तिनके बनकर उड़ जाते है ....
=================================================
बहुत इम्तेहानोंसे गुजरती है जब ये जिंदगी ,
सोने सी तपकर सुलगती है ये जिंदगी ....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...