20 अप्रैल 2012

एक राज़ ......

मैं एक राज़ हूँ ...
जिस पर कई परतें है ,
उसमे बस एक नाजुक नाजुक मोती है ,
जिसे छूने से भी मैला हो जाता है ,
बहुत सहेजकर रखा है ,
मलमल रेशमके दुपट्टेमें उसे ,
बस वो मैं हूँ ,
हमेशा मुस्कुराता खिलखिलाता 
एक राज़ ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...