23 फ़रवरी 2012

कोरी कोरी ख़ामोशी ...

वो कोरी कोरी ख़ामोशी ,
धुली हुई साफ़ चांदनीसे ,
सुखा  रही थी रातकी झुल्फें
बुँदे सितारे बनकर बिखरती गयी ........
=================================================
कभी रातको देखा है करवट बदलकर इंतज़ार करते हुए ?
आँखोंमें तराश देती ही ये जलवा एक लालिमाको लिए ...
=================================================
तुम्हे ढूंढते रहना हर गली हर शहर ये आदतसी बन गयी है ,
क्योंकि हवाएं कहाँ दिख पाती है वो तो बहती रहती है एक रुख लिए .....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...