18 जनवरी 2012

मुझ पर मत जाया कीजिये....

मेरे चले जाने के बाद
जिन्दा रहेगी मेरी आरजूएं सदा ....
==============================
सर पर छाता ओढ़कर रातका
सोये रहे हम ख्वाबोंकी बारीशसे बचते हुए .....
सुबह जीनेकी कोई वजह न मिली ,
ख्वाब रूठकर चले गए थे .....
==============================
मेरे जीवनके पयमाने
कभी इतने जायकेदार न होते ,
गर हर जाममे चंद बुँदे
घुली न होती अश्ककी......
==============================
दिलासोंको मुझ पर मत जाया कीजिये ,
हर दर्दसे दोस्ताना है मेरा चलते है मेरे साथी बनकर सदा ......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...