17 अक्तूबर 2011

एक दरवाजे पर

एक दरवाजे पर जाकर दस्तक देकर सोचा ,
शायद मुझे लौट जाना चाहिए ....
अब वो नहीं जिसके लिए इस दर पर आये है ,
उसने ही दरवाजा खोला ...
सामने ख़ुशी थी , शरमाईसी ,लजाई सी ,
एक बेबाक ,पाक ,रूहानी नूर लिए ....
मैंने पूछा क्यों छुप रही हो ????
हौले से कहा उसने क्या करू ???
मुझे तो पैसोंसे खरीदनेमें दुकानोंमें मोलमें हुजूम उमड़े है ,
क्या पता उन्हें मेरा पता कोई नोट पर नहीं लिखा है ,
न ही मैं खरीदी या बेची जा सकती हूँ ...
फिर भी ये जानते हुए जब बेचेनी होती है ,
बस मैं यूँ ही तन्हाई में चली जाती हूँ ....
और जानती हूँ तुम्हारे पास जो है मेरा पता ...
बस तुम मुझे कहीं न कहीं ढूंढ ही लोगे !!!!!

1 टिप्पणी:

  1. और जानती हूँ तुम्हारे पास जो है मेरा पता ...
    बस तुम मुझे कहीं न कहीं ढूंढ ही लोगे !!!!!बहुत ही अच्छी....

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...