4 अक्तूबर 2011

मैंने कुछ कहा नहीं ,

मैंने कुछ कहा नहीं ,
कहना चाहती भी नहीं ....
फिर भी निगोड़ी आंखे कहना मानती ही नहीं ,
बस दिलके हर सफे को खोलती रही है ......
आँख राज़ बयां करे वो नहीं चाह कभी ,
पलकोंको ढंककर पर्दा कर लिया ....
बस एक मुस्कराहट थी उनके चेहरे पर 
मेरी हर नाकाम कोशिश के लिए 
जो इश्क के इज़हार को छुपाने के लिए की मैंने .....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...