12 सितंबर 2011

धूपका कोना....

खुशबू को कैद करके एक बोतलमें 
फूलोंको तडपता छोड़ दिया क्यों ?
वो फूलोंकी लाश पर देखो 
इन्सानोके काफिले जा रहे है !!!!
================================
धूपका कोना नज़र आता है
एक गहरी काली रातमे 
जो दिनका महोरा पहेनकर आया था 
जब बुझ गयी शमा तो ख्याल आया
=================================
क़दमोंके निशानमें एक शक्ल नज़र आई 
पुराने संदूकमें जैसे ताज़ातरीन नज़्म लिखी नज़र आई

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...