23 सितंबर 2011

मिटटीकी दीवारोंसे

गुलदस्तेमें हँसते हुए फूलोंने 
शिकायत कर दी मुझसे 
डालीसे बिछड़कर हमारे 
आंसू ही खुशबू बनकर बिखर गए फिजाओंमें ....
=================================
इस मिटटीकी दीवारोंसे 
उखड़ती हुई परतोंके नीचेसे
दिख रहे थे कंकाल वहां पर गुजरे हुए कल के 
खंडहरसा ये कुछ कल एक घर था हँसता हुआ .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...