17 अगस्त 2011

आ गया ...



ठोकर खाते हुए राहोंमें हमें संभलना आया ,


लड़खड़ाते कदमोसे भी उठकर चलना आया ,


बस बेबसीको दरकनार किया हमने कुछ ऐसे ,


हमें बिन माजीकी नाव को भी मजधारसे पार लगाना आया ........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...