9 अप्रैल 2011

साथ साथ ...

उन खुबसूरत लम्हों में तुम्हारा साथ थे ,
तुम साथ थे तो ये लम्हे खुबसूरत थे ,
ये लम्हे खुबसूरत थे तो तुम मेरे साथ थे ,
तुम हो या ना हो पर हर लम्हे पर मेरी मौजूदगी थी ...
इस हकीकत को नकारा नहीं सकते ,
किसीकी चाहत खुद का वजूद ख़त्म होने पर नहीं होती ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...