12 फ़रवरी 2011

वसन्त: प्यार की फुहार

बस एक शब्द तलाश कर रहे है हम ,
जो प्यार का मतलब समजा दे इस बार ......
==================================
दिल की धड़कनका फोटोग्राफ देख लो ,
चलो मेरे दिल पर तुम्हारा ओटोग्राफ भी देख लो ....
====================================
एहसास नदी की लहरों पर उसकी तस्वीर छोड़ जाते है ,
मेरे दिलके रेगिस्तानमें एक लाल गुलाब महकाते है ...
====================================
तुमसे कहने के लिए अल्फाज़ नहीं मिले ,
तेरे सर पर सजने के लिए कोई ताज भी नहीं मिले ,
कहना चाहा तुम्हे अपना तो अल्फाज़ नहीं मिले ,
फिर भी लगा हरदम तुम्हे देखकर की हम पहली बार नहीं मिले ...........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...