8 फ़रवरी 2011

देसी वेलेंटाइन डे

आज प्यार के उत्सव पर ये मेरी सातसौवी पोस्ट .......
नयी कोपले दे रही है दुहाई प्यार को ,
देखो प्रकृति भी फूलोंके वस्त्रों का परिधान करके आई है ,
कहीं अनायास ही कोयलका धीमा सूर सुनाई देता है ,
ये प्रणय देवता कामदेव अपने फूलोंके धनुषसे
छोड़ रहे है रति पर प्रणय बाण .....
जवां दिल धड़कनेका मौसम जहाँ पर
नए प्रेम पुष्प का अंकुरण होता है ,
एक एहसास का झरना स्फुट होता है ,
प्रणय के आशियानेके दरवाजे पर एक दस्तक
दे रही है ये ऋतू जो दस्तक उसे वसंतपंचमी का आना ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...