23 सितंबर 2010

दे दीजिये कुछ तोहफा

बस तुम्हारे प्यारमें हमें एक तोहफा दे दो
तुमसे कुछ पल नाराज़ रहनेका मौका दे दो
रूठे रहकर तनहाईमें सोच लेंगे कुछ और तुमको ही ....
दूरियां जब मना लेगी
मुझे प्यारकी बरखामें भीगने का बहाना दे दो ....

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्‍दर पंक्तियां।

    उत्तर देंहटाएं
  2. jivan khuli kitabhai or jiske sare panne kore hai ....kora panna apne aap m sarthakta or vyarthta dono liye hota hai ab uspar kya likhoge sab aap par nirbhar karta hai....!!

    bahut sundar rachna...



    JAI HO MANGALMAY HO

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...