24 जुलाई 2010

बुँदे टिप ...टिप ...

मेरे घरके अटारी से शुरू होती है आसमां की सरहदें ......
मुठ्ठी बंद करके आसमां को उसमे कैद कर लिया है ...
खुलते ही मुठ्ठी आसमां पर लगाकर उड़ जाएगा ....
आसमां की नमी को कैद कर लिया है इन कोमल हथेलियोंमें ,
खुलते ही शायद मेरे वजूदका अंश वो भी मुझसे लेकर उड़ जाएगा ....
हथेली भीग जाती है बादल की नमींसे पल भर
बहती है बुँदे जब मुझ पर से होकर तब ये रूह उसमे नहाती है .....
मेरे घरकी छतसे शुरू हुई थी जो सरहदें आसमां की
मेरे भीगे गेसुओंसे टपकी बुन्दोंसे जो चुरायी थी बादलसे
देखो इस धरतीको भिगाती चली जाती है .......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...